जी लाईफ ग्रुप्स ऑफ कंपनी के मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी की मांग लेकर दिया ज्ञापन

देवास। जी लाईफ ग्रुप्स ऑफ कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर (मुख्य आरोपी) की गिरफ्तारी की मांग लेकर आवेदको ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय में एसपी के नाम ज्ञापन दिया।  आवेदक सुरेन्द्रसिंह सेंधव ने बताया कि गिरीराज पांडे, सुनील पिता आनंदीलाल शर्मा, मनोज कुमार पांडे तथा प्रमोद कुमार पांडे एवं पप्पू पवार तथा अशोक शर्मा पिता राधेश्याम शर्मा लाईफ ग्रुप्स ऑफ कंपनी के डायरेक्टर होने के नाते महत्वपूर्ण आरोपी है, उदयपुर पुलिस राजस्थान के द्वारा गिरीराज पांडे को जुलाई 2019 में गिरफ्तार कर लिया है तथा तब से ही आरोपी गिरीराज पांडे उदयपुर पुलिस के अधीनस्थ अपराध क्रं. 8ध्2018 में प्रतापनगर थाना जिला उदयपुर में न्यायिक हिरासत में है। गिरीराज पांडे मुख्य आरोपी है तथा बीएनपी थाने देवास द्वारा अपने अनुसंधान के दौरान उसकी अनुपस्थिति में चालान पेश किया गया है, वर्तमान में थाना बीएनपी देवास को यह जानकारी होने के बाद भी कि मुख्य आरोपी गिरीराज पांडे गिरफ्तार हो चुका है, उसको प्रोडक्शन वारंट से देवास लाने अथवा उसकी गिरफ्तारी के कोई प्रयास नही किए जा रहे हे। इसके कारण न्यायालय के समक्ष प्रचलित प्रकरण में भी प्रगति नही हो पा रही है। वर्तमान में गिरीराज पांडे मैनेजिंग डायरेक्टर जी लाईफ ग्रुप्स ऑफ कंपनी को उदयपुर पुलिस द्वारा उनके विरूद्ध पंजीबद्ध अपराधो में गिरफ्तार किया जा चुका है। आवेदक विकास नागौरी, छगनलाल सोलंकी, राकेश शर्मा, जितेन्द्रसिंह सेंधव आदि ने मांग की है कि फरियादीगणो की ओर से प्रस्तुत इस आवेदन को न्यायहित में स्वीकार किए जाने की कृपा की जावे तथा गिरीराज पांडे पिता आनंदीलाल मैनेजिंग डायरेक्टर लाईफ ग्रुप्स ऑफ कंपनी को थाना बीएनपी देवास के द्वारा प्रोडक्शन वारंट के तहत गिरफ्तार कर जिला न्यायालय देवास के समक्ष संबंधी कार्यवाही किए जाने बाबद योग्य आदेश पारित करने की कृपा करे, जिससे प्रचलित इस प्रकरण का उचित निराकरण हो सके। 


Comments

Popular posts from this blog

मध्यप्रदेश की विधानसभा के विधानसभावार परिणाम .... सीधे आपके मोबाइल पर | election results MP #MPelection2023

हाईवे पर होता रहा मौत का ख़तरनाक तांडव, दरिंदों ने कार से बांधकर युवक को घसीटा

क्या देवास में पवार परिवार के आसपास विघ्नसंतोषी, विघटनकारी असामाजिक, अवसरवादियों सहित अवैध व गैर कानूनी कारोबारियों का जमघट कोई गहरी साजिश है ? या ..... ?