कृषि मंत्री करेंगे शुभारंभ, वैज्ञानिक देंगे किसानों को विभिन्न जानकारियां


खरगोन:- कसरावद की कृषि उपज मंड़ी में दो दिवसीय चिली फेस्टिवल का शुभारंभ होगा। चिली फेस्टिल को लेकर तैयारियां लगभग पूर्ण हो चुकी है। इस फेस्टिवल में बड़ी संख्या में किसान सम्मिलित होंगे। प्रदेश स्तरीय इस चिली फेस्टीवल में मिर्च की उन्नत किस्मों की प्रदर्शनी, वैज्ञानिक सेमिनार और इनवेस्टर के लिए अलग-अलग बड़े स्टॉल लगाए जाएंगे। इस फेस्टीवल में 100 से अधिक कृषि क्षेत्र में कार्यरत कंपनियों के स्टॉल भी होंगे। इस महोत्सव में राष्ट्रीय स्तर के अनुसंधान केंद्रों के 25 से अधिक कृषि वैज्ञानिकों के साथ-साथ प्रोसेसिंग उद्योग से जुड़े इनवेस्टर भी कार्यक्रम में उपस्थित होंगे। इस महोत्सव का मुख्य उद्देश्य मालवा और निमाड़ के मिर्च उत्पादक किसानों को नई दिशा देना तथा वैज्ञानिक पहलुओं से अवगत कराना है। वहीं उत्पादित मिर्च की ब्रांडिंग करना भी है। आज शुक्रवार को कार्यक्रम के पहले सत्र में स्वागत संबोधन उद्यानिकी आयुक्त एम. काली दुरई करेंगे। वहीं मुख्य वक्ता के रूप में नई दिल्ली के बलराज सिंह मिर्च की उत्पादकता विषय पर जानकारी देंगे। वहीं प्रदेश के कृषि, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री सचिन यादव भी अपना उद्बोधन देंगे। इसके पश्चात उद्यानिकी संयुक्त संचालक डीआर जाटव आभार व्यक्त करेंगे। वहीं दूसरे तकनीकी सत्र में नई दिल्ली के डॉ. नवेद सवीर पौध व उत्पादकता, वाराणासी के वैज्ञानिक उद्यानिकी फसलों के बारे में, गुजरात वडौदड़ा के नरेंद्र धानदरे बीटीआई प्रबंधन, मुंबई के प्रशांत वाघमरे निर्यात अवसरों पर, डॉ. रामनाथ सूर्यवंशी प्रोसेसिंग प्रोडक्ट प्रमाणीकरण तथा बड़वानी जिले के अंजड़ के किसान जयदेव पाटीदार मिर्च की उत्पादकता एवं मिट्टी की गुणवत्ता के बारे में विस्तार से बताएंगे।


कवि सम्मेलन 1 मार्च को


चिली फेस्टिवल के दूसरे दिन 1 मार्च को दोपहर 1 बजे से कवि सम्मेलन आयोजित होगा। यहां निमाड़ के अमर काव्य स्वरों द्वारा आगवानी की जाएगी। कवि सम्मेलन में सनावद के डॉ. शैलेंद्र चौकड़े, घेगांव के राजेश प्रजापति, बरसलाय के जितेंद्र यादव, मनावर की दीपिका व्यास एवं प्रवीण अत्रे अपना काव्य पाठ करेंगे।


 


Comments