Video- सगे भाई ने बदमाशों के साथ अपने ही घर में की लूट, परिवार को पीटा, बंदूक की नोंक पर लुटे 1 लाख !


  • सगे भाई ने बदमाशों के साथ मिलकर अपने ही घर में की लूट, 
  • पूरे परिवार को लाठी डंडो से पीटा, बंदूक की नोंक पर लुटे 1 लाख !
  • घटना के दौरान 80 वर्षीय माँ से भी की मारपीट !
  • बड़वाह ब्लॉक के ग्राम छोटी कोदबार की घटना



भारत सागर न्यूज, लोकेन्द्र परिहार, बड़वाह। बलवाड़ा थानान्तर्गत ग्राम छोटी कोदबार में रविवार-सोमवार की दरमियानी रात एक किसान के घर उसके ही छोटे भाई ने पांच-छह बदमाशों के साथ घुसकर परिवार को लाठी-डंडो से पीटा। जानकारी अनुसार कैंसर पीड़ित 80 साल की बुजुर्ग माँ, भाभी, चार छोटे भतीजों एवं भतीजियां को भी नही बख्शा। बेतहाशा पिटाई के बाद बंदूक की नोक पर करीब 1 लाख की लूट भी की। घटना की जानकारी लगने पर बलवाड़ा पुलिस भी मौके पर पहुंची। सुबह परिवार के चार सदस्यों को बड़वाह के शासकीय अस्पताल लेकर आया गया। जहां उनका उपचार चल रहा है। 40 वर्षीय पीड़ित किशन पिता दरजी सोलंकी ने बताया कि रविवार रात करीब एक बजे पांच-छह लोग मुंह पर कपड़ा बांधकर आए। बिना कुछ बोले मारना शुरू कर दिया। बदमाशों ने किसान को लकड़ी के खम्बे पर बाँध दिया और लाठी से पैर और सीने पर वार करने लगे। इसके बाद बदमाश अंदर घुसे घर में पत्नि आशाबाई, बेटी मनीषा(14), कविता(11) बेटे उमेश(12), प्रदीप(8) को मारना शुरू कर दिया। कैंसर पीड़ित बजियाबाई(80) को भी पैर में लाठी-डंडे से पीटा। किशन बमुश्किल खम्बे से छूटकर गाँव के चौकीदार एवं ग्रामीणों के साथ वापस आया। तब तक सभी बदमाश जा चुके थे। मारपीट में आशाबाई का बाया हाथ टूट गया, सभी को शरीर पर चोट के निशान भी है। थाना प्रभारी ने बताया वारदात तो हुई है लेकिन 1 लाख की लूट में संदेह है। मामले में गम्भीरता से जांच करने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा।


किशन ने बताया कि कैंसरग्रस्त माँ के ईलाज के लिए रखे पैसे भी बदमाशो ने बंदूक की नांक पर लूट लिए। किशन ने बताया कि इन पैसो से कैंसर पीड़ित माँ का ईलाज करवाना था। वही सबसे छोटे भाई शेरशिह ने बताया आरोपी सीताराम जो उनका सगा भाई है। सीताराम आपराधिक प्रवृत्ति के लोगां के साथ रहने लगा था। जिसके चलते उसने 6 साल पहले घर छोड़ दिया था और हमारे परिवार ने भी उसका पारिवारिक बहिष्कार कर दिया था। फिलहाल इस मारपीट कांड के पीछे का कारण स्पष्ट नही है। पुलिस की जांच के बाद ही बहुत से तथ्य सामने आ सकते हैं। 


Comments