जु-जित्सु मार्शल आर्ट को खेल मंत्रालय भारत सरकार से मिली मान्यता.....

देवास। युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा  जु-जित्सु खेल को मान्यता मिलने पर जु-जित्सु एसोसिएशन ऑफ मध्य प्रदेश के तमाम पदाधिकारी एवं खिलाडिय़ों में खुशी की लहर हैं।  जु-जित्सु एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सेंसाई सुरेश गोपी एवं महासचिव सेंसाई विनय जोशी एवं नॉर्थ ईस्ट के वाइस प्रेसिडेंट सेंसाई अमित अरोरा के अथक प्रयासों से  जु-जित्सु मार्शल आर्ट खेल को भारत सरकार के खेल मंत्रालय से मान्यता प्राप्त हो चुकी है। जु-जित्सु एसोसिएशन ऑफ मध्य प्रदेश के अध्यक्ष सेंसाई विजेंद्र खरसोदिया एवं महासचिव सेंसाई रोहिणी कलम ने बताया कि मान्यता मिलने से अब इस खेल के खिलाडिय़ों को भी भारत एवं राज्य खेल विभाग के द्वारा मिलने वाली आर्थिक सहायता एवं विभिन्न खेल कोटे के अंतर्गत निकलने वाली नौकरियों का भी लाभ मिल सकेगा। 

अध्यक्ष विजेंद्र खरसोदिया ने बताया कि जु-जित्सु खेल का इतिहास लगभग ढाई हजार वर्ष पुराना है यह एक जापानी खेल विधा है, जिसमें मार्शल आर्ट की अनेक विधाओं का समावेश है। यहां तक कहा जाता है कि  जु-जित्सु खेल को जुडो-कराते जैसी अनेक विधाओं की जननी भी कहा जाता है। यह खेल अन्य मार्शल आर्ट खेलों के मायने में ज्यादा प्रभावशाली एवं अधिक तौर पर प्रचलित होता दिखाई दे रहा है। मध्य प्रदेश के ही नहीं पूरे भारत के  जु-जित्सु खिलाडिय़ों को भारत सरकार द्वारा मान्यता मिलने पर अनेक प्रकार के लाभ अन्य खेलों को भारत सरकार द्वारा दिए जाते हैं। जिस तरह आज ओलंपिक खेलों में भारत अपना तिरंगा लहरा रहा है उसी तरह आने वाले समय में जु-जित्सु खिलाडिय़ों का भी भारत में सुनहरा भविष्य दिखाई दे रहा है।  जु-जित्सु मार्शल आर्ट को ओलंपिक काउंसिल ऑफ एशिया द्वारा मान्यता प्राप्त है एवं या खेल 2018 के एशियाई खेलों में जो कि जकार्ता में आयोजित हुए थे उसमें भी सम्मिलित था और आगामी 2022 के एशियाई खेलों में जो कि चाइना में आयोजित होने वाले हैं।


 इस बड़ी प्रतियोगिता में भी ऑफिशली सम्मिलित किया गया है।  जु-जित्सु खेल को एशियन गेम्स, एशियन इंडोर एवं मार्शल आर्ट गेम्स, एशियन बीच गेम्स, यूथ गेम्स, वर्ल्ड गेम्स, वर्ल्ड पुलिस एवं फायर गेम्स, वल्र्ड यूनिवर्सिटी, गेम्स वल्र्ड स्कूल गेम, वल्र्ड मार्शल आर्ट गेम्स जैसी अनेक मान्यता प्राप्त बड़ी प्रतिस्पर्धा में भी हमारे इस खेल को सम्मिलित किया गया है। जल्द ही  जु-जित्सु खेल भी ओलंपिक का भाग होगा और मध्य प्रदेश के खिलाड़ी आने वाले समय में एशियाई खेलों में भी मध्यप्रदेश का एवं भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

इसके पूर्व भी मध्य प्रदेश से कई खिलाडिय़ों ने एशियन बीच गेम्सए एशियन इंडोर गेम्सए वल्र्ड चैंपियनशिपए एशियन चैंपियनशिप ऐसी बड़ी प्रतियोगिता में भाग लेकर मध्यप्रदेश को पदक एवं रैंकिंग में आकर मध्य प्रदेश का नाम गौरवान्वित किया है। जु.जित्सु खेल के अंतर्गत अनेक प्रकार की इवेंट का आयोजन होता है जैसे नेवाजा एफाइटिंग सिस्टम, कांटेक्ट जु-जित्सु, नोगी  दुओ शो एवं  क्लासिक यह अलग-अलग आयु वर्ग एवं वजन समूह में आयोजित की जाती हैं साथ ही में  जु-जित्सु खेल के उज्जवल भविष्य हमें इस तरह से भी दिख रहा है कि मध्यप्रदेश शासन द्वारा अब हमारे इस खेल के स्कॉलरशिप एवं मध्य प्रदेश शासन के अधिकृत खेलों की सूची में व मध्य प्रदेश शासन के सर्वोच्च खेल पुरस्कार विक्रम अवार्ड, एकलव्य अवार्ड एवं विश्वामित्र अवार्ड के लिए भी सम्मिलित कर लिया गया है। 

इस हर्षोल्लास के कार्यक्रम में   जु-जित्सु एसोसिएशन ऑफ मध्य प्रदेश के संरक्षक श्रीमती गायत्री राजे पवार विधायक देवास, सुभाष शर्मा पूर्व महापौर देवास, अध्यक्ष विजेंद्र खरसोदिया महासचिव रोहिणी कलम, कोषाध्यक्ष प्रेम परमार, रजनीश साहू, रश्मि कलम, विनोद सोलंकी,  रेणुका कलम, सुयश करें, अनिकेत चौधरी, वैदेही शर्मा , ऋषभ त्रिवेदी , पूर्णिमा पंवार आदि ने मध्य प्रदेश के सभी खिलाडिय़ों को शुभकामनाएं प्रेषित की व एक दूसरे को  मिठाई खिलाकर एवं केक काटकर इस खुशी को व्यक्त किया।

लगातार समाचारों 📰 के लिए जुड़े रहिये हमारे साथ हमारे whatsapp news group को join कीजिये

https://chat.whatsapp.com/IfOqWrlymiEAVnI8n2tjaF





Comments