दर्शनार्थियों के लिए चामुण्डा माता के दर्शन गर्भगृह से शुरू किये जाने की मांग......

भारत तिब्बत समन्वय संघ ने विधायक व एसडीएम को सौंपा ज्ञापन



देवास। माता टेकरी पर श्रद्धालुओं को चामुण्डा माता के दर्शन गर्भगृह से करवाए जाने के लिये भारत तिब्बत समन्वय संघ (बीटीएसएस) से सम्बद्ध धर्म एवं संस्कृति विभाग द्वारा ज्ञापन सौंपा गया है। शासकीय देवस्थान प्रबंध समिति के सचिव एसडीएम प्रदीप सोनी के नाम एवं विधायक श्रीमंत गायत्रीराजे पवार को सौंपे गये ज्ञापन में संघ द्वारा बताया गया कि कोरोना संक्रमण काल से चामुण्डा माता के गर्भगृह से प्रतिबंधित किया गया है।  कोरोना संक्रमण शिथिल होने के साथ उज्जैन के प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर, पशुपतिनाथ मंदिर मंदसौर, बगलामुखी माता, नलखेड़ा सहित देश के प्रसिद्ध मंदिरों में श्रद्धालुओं को गर्भगृह में प्रवेश कर देवदर्शन पुन: प्रारंभ कर दिया गया है। इसी प्रकार टेकरी पर चामुंडा माता के दर्शन गर्भगृह से प्रारंभ किये जाए। चामुण्डा मााता मंदिर के मुख्य द्वार पर अस्थाई तौर से लगाई गयी जाली को हटाया जाए, ताकि श्रद्धालुओं एवं छोटे छोटे बच्चों को दर्शन सुलभता से हो सके। धर्म एवं संस्कृति विभाग के जिला अध्यक्ष ओमप्रकाश केशवरे ने यह जानकारी देते हुए बताया कि ज्ञापन सौंपने के अवसर पर संघ के प्रांत महामंत्री निर्माण सोलंकी, जिलाध्यक्ष आनंद सिंह ठाकुर, जिला महामंत्री जगदीश सेन, कोषाध्यक्ष विनोद जैन, युवा शाखा जिलाध्या पवन विजयवर्गीय, अखिलेश सोलंकी, शेखर कौशल, अमित विजयवर्गीय, संतोष जैन, संजय पुराणिक, पंकज वर्मा, सुरेन्द्रसिंह ठाकुर, अर्पित चावड़ा, नत्थुलाल यादव, आशीष व्यास, दिपेश जैन सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे। 






Comments