तो देवास में जीत सकती है कांग्रेस, लेकिन जब तक यह हाथ है रवि के भाग हैं ? महापौर चुनावों पर क्या कहता है भारत सागर न्यूज का सर्वे ? Mayor Election Dewas

राहुल परमार, भारत सागर न्यूज, देवास। जैसा कि आप जान ही रहे हैं वर्षा ऋतु की दस्तक होने वाली है जिससे वातावरण का तापमान तो गिरने वाला है लेकिन आगामी समय में होने वाले ग्राम पंचायतों और नगरीय निकायों के चुनाव का पारा अब बढ़ने लगा है। दरअसल देवास में भाजपा के प्रत्याशी चयन में लगाई जा रही अटकलें आमजन को उत्साहित और आश्चर्यचकित कर रही हैं। कभी रवि जैन का नाम आगे तो कभी राजीव खंडेलवाल तो कभी राजेश यादव ! चौंकिये नहीं यह सभी नाम प्रतिनिधियों के हैं जो कि इनके साथ नारी शक्तियों से जुड़े हुए हैं। इनके आधार पर ही श्रीमतियों को भाजपा का टिकट मिलेगा।  इन सबमें बाकी कई अन्य ऐसे दावेदार जो या तो कालोनाइजर हैं, सराफा से हैं या फिर प्रापर्टी संबंधी कार्यों से है या फिर स्वास्थ्य सेवाओं में योगदान दे रहे हैं, उनके नामों पर अब लगभग विराम सा लग गया है। आवेदनों के भोपाल जाने के बाद इन पार्श्व नामों का विलोपीकरण हो गया है, ऐसा प्रतीत हो रहा है। हालांकि पैलेस समर्थकों में दुर्गेश अग्रवाल और धर्मेन्द्रसिंह बैंस का नाम भी शामिल है। 

बहरहाल कांग्रेस के प्रत्याशी की घोषणा के बाद शहर में चर्चा है कि जिस समाज के कांग्रेस के उम्मीदवार है उन्हीं समाज के किसी व्यक्ति को भाजपा से टिकट दिया जाएगा लेकिन जरा रुकिये ! ऐसे किसी नाम पर देवास में ईशारा रीता शर्मा पर जाता है लेकिन पूर्व महापौर के बारे में देवास में कोई विशेष चर्चा नही देखी गई। हॉं ! निंदा कई लोगों के मुंह जुबानी सुनी जा चुकी है। इन सभी में फिलहाल पूजा रवि जैन का नाम सबसे ऊपर देखा जा रहा है। कारण है वर्तमान विधायक के प्रतिनिधि । 



गौरतलब है कि विधायक श्रीमंत गायत्रीराजे पवार ने उनके पैनल में नाम सुझाये हैं जिनमें सबसे पहला नाम पूजा रवि जैन का है। साथ ही वे सांसद महेन्द्रसिंह सोलंकी के भी काफी निकट बताये जाते हैं। बताते चलें रवि जैन लंबे समय से भाजपा से जुड़े हुए हैं और पूर्व में युवा मोर्चा में कई पदों पर भी रहे हैं। इसके साथ ही वे एल्डरमैन भी रहे हैं। इसी के अलावा पिछले 14 वर्षों से संस्था सिध्दिविनायक का संचालन भी कर रहे हैं जिसमें उनकी पत्नी पूजा जैन का सहयोग बराबरी का होता है। यह वही संस्था है जो प्रत्येक वर्ष हरतालिका तीज पर और गणेश महोत्सव के दौरान बड़े स्तर पर अपनी सक्रियता दिखाती है। इन धार्मिक त्यौहारों से देवास की धार्मिक जनता को अपनी ओर पहले ही आकर्षित कर चुके हैं। धार्मिक और राजनीतिक भूमिका के अतिरिक्त संस्था के माध्यम से सामाजिक दृष्टिकोण भी मजबूती से अपने आवेदन में प्रस्तुत किया है। कोरोना काल में प्रवासियों और स्थानीय लोगों की सहायता भी यहां जैन को काम आयेगी। 

भारत सागर न्यूज के सर्वे में भी पूजा रवि जैन को जनता का समर्थन मिला है। खबर लिखने तक का एक चित्र हम आपसे साझा भी कर रहे हैं। इसमें अन्य उम्मीदवारो की स्थिति भी देखी जा सकती है।  



कांग्रेस में जीत के चांस कैसे हो सकते हैं - राजनीतिक गलियारों के विशेषज्ञों की माने तो पैलेस समर्थित व्यक्ति का टिकट यदि नहीं होता है तो पैलेस समर्थक परोक्ष रुप से अन्य किसी उम्मीदवार को समर्थन दे सकते हैं और यदि ऐसा होता है तो कांग्रेस की राह आसान हो सकती है या फिर कोई और भी निर्दलीय व्यक्ति चुना जा सकता है। विशेषज्ञ बतौर पूर्व महापौरों के इतिहास का उदाहरण देते हुए देखे जा सकते हैं। हालांकि कांग्रेस ने अभी तक महापौर चुनाव के प्रचार प्रसार और रणनीति को सार्वजनिक नहीं किया है और जिस प्रकार प्रत्याशी तय किया है, उसी प्रकार मौनरुप में जीत दर्ज करदे, इसमें भी कोई संशय नहीं है।  एक तर्क यह भी है कि किसी अन्य उम्मीदवार के चयन पर विधायक की नाराजगी का सामना लगातार करना पड़ सकता है। क्योंकि क्षेत्र में उनके समर्थकों का अपार संख्याबल है हालांकि भाजपा संगठन में कुछ भी हो सकता है। किसी अन्य उम्मीदवार का चयन होने पर संगठन तो साथ देगा लेकिन समर्थक साथ परोक्ष देंगे या प्रत्यक्ष ? यह कहा नही जा सकता ।



 

देखना रुचिकर होगा कि इस बार टिकट का भाग किनके साथ होगा क्योंकि यदि पैलेस समर्थित टिकट होगा तो रवि के भाग खिल सकते हैं और यदि अन्य का होता है तो टिकट का भाग तो खुलेगा ही लेकिन जीत का भाग संशय में डाल देगा। 


Comments