रविवार दोपहर में मीठा तालाब में डूबा युवक का तालाब से 45 घंटे के रेस्क्यू के बाद निकला शव.....


अंतत: 45 घंटे के रेस्क्यू के बाद मिली सफलता 



देवास। मीठा तालाब में रविवार को डूबे जितेन्द्र पिता जगदीश का शव आखिरकार तीसरे दिन मछली के महाजाल में फंस गया। होमगार्ड व गोताखोर व कुछ स्थानीय रैवाबाग के तैराक तालाब में डूबे युवक को खोजने के लिए दो दिनों से प्रयास कर रहे थे। लेकिन तालाब में जगह-जगह खोजने के बाद भी युवक मिल नहीं रहा था। 



मंगलवार को दोपहर 12 बजे तालाब किनारे झाडिय़ों में लगाए गए मछली के महाजाल में शव फंस गया। उसके बाद शव को निकालकर जिला अस्पताल पहुंचाया गया। जहां पोस्टमार्टम के बाद शव का परिजनों को सौंप दिया गया है। साथ ही पुलिस ने मर्ग कायम कर प्रकरण को जांच में लिया है। 




45 घंटे के सर्च अभियान के बाद मिली सफलता

मीठा तालाब में रविवार दोपहर के समय डूबे युवक को खोजते हुए आज तीसरे दिन फिर से गोताखोर व होमगार्ड टीम द्वारा तालाब में सर्चिंग अभियान शुरु किया गया था। तीन दिन में करीब 45 घंटे के सर्च अभियान के बाद होमगार्ड टीम व गोताखोर की मदद से तालाब में डूबे युवक का शव बरामद हुआ। मंगलवार को सुबह स्थानीय मछुआरे और रेवाबाग के तैराकों की सहायता से आधे तालाब में दो जगह मछली पकडने का महाजाल भी लगाया गया था। 



जिससे उम्मीद की जा रही थी कि सफलता मिलेगी और अंतत: यह प्रयास टीम का सफल रहा। उल्लेखनीय है कि रविवार को मछली खरीदने अपने चाचा संजय के साथ आए जितेन्द्र पिता जगदीश उम्र 24 निवासी त्रिलोक नगर तालाब में नहाने के दौरान डूब गया था जिसके बाद से उसे खोजने का प्रयास नाहर दरवाजा पुलिस की मदद से होमगार्ड के जवान व गोताखोर कर रहे थे।

 

Comments